Breaking News

क्रिमिनल केस में हाईकोर्ट ने सुनाई अनोखी सजा, एक माह कोरोना मरीज की करनी होगी सेवा



किशनगंज में सजा के तौर पर फौजदारी मुकदमे के एक आरोपी  को पटना उच्च न्यायालय ने कोरोना मरीज की खिदमत करने का आदेश जारी किया है। मो. हसनैन बनाम राज्य सरकार व अन्य के विरुद्ध सुनवाई करते पटना उच्च न्यायालय ने चार जून को यह आदेश दिया है। आरोपी मो. हसनैन बहादुरगंज के सतिभिट्टा गांव का रहनेवाला है।
इस आदेश के बाद सिविल सर्जन डा. श्रीनंदन ने आरोपी मो. हसनैन को महेथबथना स्थित एमजीएम मेडिकल कॉलेज के रुरल सेंटर में बने आइसोलेशन सेंटर में मरीजों की सेवा में लगा दिया है। मंगलवार 9 जून से एक माह तक आरोपी मो. हसनैन को कोरोना पीड़ित मरीजों की सेवा करनी होगी। सिविल सर्जन डॉ. श्री नंदन ने बताया कि फौजदारी मुकदमे के मामले के आरोपी मो. हसनैन को पटना उच्च न्यायालय ने एक माह तक कोरोना मरीजों की सेवा करने का निर्देश दिया था। 
पटना उच्च न्यायालय के आदेश के बाद किशनगंज सीजेएम न्यायालय से इस आदेश का पालन सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया था। उसी आलोक में मो. हसनैन को कोरोना पीड़ित मरीजों की सेवा में लगा दिया गया है। सिविल सर्जन ने बताया कि आरोपी कम पढ़ा लिखा है। इसलिए उससे चतुर्थवर्गीय कर्मी का काम लिया जा रहा है। उन्होंने बताया कि नौ जुलाई तक मो. हसनैन से कोरोना मरीजों की सेवा कराई जाएगी। 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।