Breaking News

बिहार:- प्रवासी मजदूरो के भगवान सोनू सूद ने बताया हर बस के पिछे का खर्च...


प्रवासी मजदूरों का मसीहा

बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद ( sonu sood )  फिलहाल देश मे सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले व्यक्तियों में से एक है । सोनू सूद महाराष्ट्र और अन्य राज्यों में फंसे  मजदूरों अ
और छात्रों को घर पहुंचाने की व्यवस्था कर रहे हैं ।
इसके साथ लगभग 2 महीने से जरूरतमंदों को भोजन भी करा रहे हैं । एक इंटरव्यू के दौरान सोनू सूद से मजदूरों को घर भेजने में बॉस के खर्च को लेकर सवाल पूछा गया  जिस पर   सोनू सूद ने कहा यह इस पर निर्भर करता है प्रवासियों कहां जाना है । अशोक ने बताया कि एक बस के पीछे तकरीबन 1.8लाख से 2 लाख तक खर्च हो जाते हैं ।
 रिपोर्ट के अनुसार सोनू सूद अभी तक 12,000 से अधिक प्रवासी मजदूरों को घर छोड़ा है ।

प्रवासी मजदूरों के बाद अब सोनू सूद ने केरल में फंसीं 177 लड़कियों को कराया एयरलिफ्ट

मैं भी कभी प्रवासी बनकर आंखों में सपने लिए मुंबई आया था: सोनू
सोनू ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा, 'मैं प्रवासी मजदूरों की मदद इसलिए कर रहा हूं कि क्योंकि मैं भी कभी प्रवासी था, जो अपनी आंखों ढेर सारे सपने लेकर मुंबई आया था। मुझे तस्वीरों से पता चला कि वे कितनी परेशानी से गुजर रहे हैं। वे बिना खाना और पानी के हजारों किलोमीटर सड़कों पर पैदल चले जा रहा है तो मुझे अपने शुरुआती दिनों की याद आ गई। मैं पहली बार मुंबई बिना आरक्षित टिकट के ट्रेन से आया था। मैं ट्रेन के दरवाजे पर खड़े होकर और वॉशरूम बगल में सोकर मुंबई पहुंचा था। मुझे पता है कि संघर्ष क्या चीज होती है।'
सोनू सूद और उनकी टीम ने बसों के माध्यम से हजारों मजदूरों को मुंबई से कर्नाटक राजस्थान, झारखंड, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश और बिहार तक भेजा है और यह काम अभी भी जारी है।

महिला मजदूर ने बेटे को दिया एक्टर का नाम...
बता दें कि हाल ही में उन्होंने दरभंगा के कुछ प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाया जिनमें से एक गर्भवती महिला भी शामिल थीं। उस महिला को बेटा हुआ है जिसका नाम सोनू सूद रखा गया है।  
सोनू ने बॉम्बे टाइम्स से बात करते हुए कहा, 'मैंने उनसे मजाक में पूछा कि बेटे का नाम तो सोनू श्रीवास्तव होना चाहिए। तो उन्होंने कहा कि नहीं हमने बेटे का नाम सोनू सूद श्रीवास्तव रखा है। उनके ऐसा कहने से मेरा दिल खुश हो गया।'

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।