Breaking News

कोविड-19 में संलग्न चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों को दिया गया प्रशिक्षण

पनालाल कुमार की रिपोर्ट 

- राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा  ज़ूम के जरिए दिया जा रहा प्रशिक्षण
- केयर इंडिया द्वारा लिया जा रहा सहयोग
- चिकित्सकों को क्षमतावर्धन व उन्मुखीकरण का किया जा रहा प्रयास 

पूर्णियाँ : 03 जून


कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं. लॉक डाउन के खत्म होने व प्रवासी लोगों के लौटने के बाद संक्रमण से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा हरमुमकिन प्रयास जारी है. ऐसे समय में उनसे निपटने व संक्रमण को रोकने के लिए चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों को राज्य स्वास्थ्य विभाग द्वारा जूम के द्वारा प्रशिक्षण दिया गया.

प्रवासियों के लौटने पर उन्हें संक्रमण से बचाने सम्बधी दी गई जानकारी :
लॉक डाउन के अनलॉक होने व ट्रैनों व बसों के शुरू होने से प्रवासियों द्वारा अपने-अपने घर वापस लौटा जा रहा है. ऐसे समय में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है. इनसे निपटने हेतु चिकित्सकों को जानकारी दी गई. प्रवासियों के लौटने पर उनकी स्क्रीनिंग व स्वास्थ्य परीक्षण सहित 14 दिनों तक क्वारंटाइन में रखने, इस दौरान रखने वाली सावधानीयों की जानकारी देने, खुद की सुरक्षा का ख्याल रखने आदि की जानकारी चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों को दी गई.

उन्मुखीकरण हेतु चिकित्सकों को दिया गया निर्देश:

कोविड-19 के रोगियों के उपचार में संलग्न चिकित्सकों एवं नर्सिंग स्टाफ के निरंतर प्रशिक्षण व क्षमतावर्धन को लेकर राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यकारी निदेशक मनोज कुमार ने सभी जिलाधिकारी सहित मुख्य चिकित्सा पदाधिकारियों, संचारी रोग पदाधिकारियों व जिला नोडल ऑफिसर को कोविड 19 प्रशिक्षण के संबंध में पत्र लिख कर आवश्यक निर्देश दिये हैं. राज्य के सभी जिलों में प्रवासी श्रमिक एवं अन्य व्यक्ति लगातार अपने घरों को वापस आ रहे हैं. कोविड 19 के एक्टिव केस बढ़ने की संभावना को देखते हुए आवश्यकतानुसार आईसोलेशन एंव इंटेसिव केयर यूनिट में बेड की संख्या बढ़ाने के लिए सतत प्रयास किये जा रहे हैं. साथ ही उपलब्ध मानव संसाधन के समुचित उपयोग हेतु उनके प्रशिक्षण संबंधी निर्देश दिये गये हैं जिसकी पूरी तैयारी की गयी है.

केअर इंडिया द्वारा किया जा रहा सहयोग :
जिला कार्यक्रम प्रबंधक ब्रजेश कुमार सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए जिला संचारी रोग विभाग एवं केयर इंडिया द्वारा चिकित्सकों व स्वास्थ्य कर्मियों का हरसंभव मदद करने की कोशिश कर रही है. जूम द्वारा करवाया गया प्रशिक्षण के दौरान सम्बंधित तकनीकी सहयोग के रूप में आई-गॉट प्लेटफार्म पर उपलब्ध प्रशिक्षण मोड्यूल विशेष रूप से ऑक्सिजन थेरेपी, वेंटिलेटर उपलब्ध कराई गई. इससे पहले भी केयर इंडिया द्वारा स्वास्थ्य कर्मियों व चिकित्सकों को आई-गॉट ट्रेनिंग केयर द्वारा करवाई गई है. आई-गॉट ट्रेनिंग द्वारा कोरोना वारियर्स सभी चिकित्सा कर्मियों को ऑडियो, वीडियो माध्यम से इस विकट परिस्थितियों से निपटने की जानकारी दी गई थी.

कोविड 19 से जुड़े इन विषयों पर दी जा रही है ट्रेनिंग:

चिकित्सकों एवं नर्सिंग स्फाफ को कोविड 19 संबंधित क्लीनिकल मैनेजमेंट के तहत एपीडिमियोलॉजी, क्लीनिकल फीचर्स, डाइग्नोसिग, ट्रीटमेंट व फॉलोअप की जानकारी दी गयी है. इसके अलावा गाइडलाइन फॉर मैनेजिंग कोविड 19 के तहत कोविड केयर सेंटर, डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर्स, डेडीकेटेड कोविड अस्पताल की जानकारी 4 जून को दी जायेगी. 9 जून को होने वाले प्रशिक्षण के दौरान कोविड 19 के गंभीर मामलों का प्रबंधन विषय पर ट्रेनिंग दी जानी है. इसके अलावा 11 जून को कोविड 19 के संदर्भ में श्ववसन या ऑक्सीजन थेरेपी विषय पर उन्मुखीकरण कार्य किया जायेगा.

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।