Breaking News

मनरेगा योजना के तहत पंचायतों में मजदूरों को मिल रहा काम, योजना के तहत कार्य शुरू होने से मजदूरों के चेहरे खिले

  
वैशाली जिला व्यूरो प्रभंजन कुमार मिश्रा

मनरेगा योजना के तहत पंचायतों में कार्य शुरू है। कहीं पोखर उराही की जा रही है तो कहीं पइन की सफाई हो रहा है। कहीं चापाकल के पास सोख्ता बनाए जा रहे हैं तो कहीं पशु शेड का निर्माण हो रहा है। मजदूर पहुंच कर काम को कर रहे हैं। हालांकि इसका पारिश्रमिक उन्हे खाते पर भेजी जानी है।महुआ प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में मनरेगा योजना के तहत मजदूरों का कार्य हो रहा था। इस बीच पूछने पर बताया गया कि सरकारी मजदूरी तो 194 ही हैं लेकिन इन मजदूरों को ढाई सौ से 300 रुपए प्रतिदिन देने पड़ रहे हैं। यह भी बताया गया की 194 रुफय सरकारी मजदूरी पर तो कोई कमाने नहीं पहुंचेगा। यह बहुत ही सोचनीय विषय है कि आखिर सरकार मजदूरों को 194 रुपये ही प्रति दिन के हिसाब से दे रही है जबकि पंचायतों में उन्हें ढाई से 300 मजदूरी दिए जा रहे हैं। आखिर इसकी पूर्ति कहां से होती है। बताया जाता है कि इसके लिए पंचायतों में विशेष प्रकार की जॉब कार्ड बनाए गए हैं। जिससे उन्हें इसकी पूर्ति की जाती है। मजदूरों को 10 दिन के तीन हजार खाते पर भेजे जाते हैं। इधर मजदूर भी बताते हैं कि वह सरकारी मजदूरी पर तो कभी खटने नहीं जाएंगे। ऐसे भी उन्हें गांव के लोग पगार में ढाई से 300 देते हैं। इसलिए वह इतने कम पर मनरेगा में खटने क्यों जाएंगे। उन्हें जब तक ढाई से 300 नहीं मिलेंगे, वह काम नहीं करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।