Breaking News

बिहार में विदेशी सामानों की कितनी है खपत, जानने के लिए सर्वे कराएगी नीतीश कुमार सरकार



बिहार सरकार लोकल को वोकल करने की मुहिम और तेज करेगी। स्थानीय उत्पादों की ब्रांडिंग के साथ ही यह भी पता लगाया जाएगा कि राज्य के बाजारों में किन विदेशी उत्पादों की मांग है। इसके लिए राज्य सरकार ने एक सर्वे कराने का फैसला किया है। सर्वे के आधार पर प्राथमिकता सूची तैयार कराई जाएगी कि किन उत्पादों की मांग अधिक है। ऐसे कुछ उत्पादों का उत्पादन राज्यस्तर पर कराया जाएगा। इससे जहां विदेशी उत्पादों पर निर्भरता घटेगी, वहीं राज्य में व्यवसायिक गतिविधियां बढ़ने के साथ ही नए रोजगारों का सृजन होगा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में स्थानीय उत्पादों के प्रचार-प्रसार और प्रयोग पर जोर दिया था। बिहार में ऐसे दर्जनों उत्पादों हैं, जिन पर ध्यान दिया जाए तो राज्य की आर्थिक के साथ ही सामाजिक समृद्धि भी बढ़ेगी। वहीं सरकार एक और प्रयोग करने जा रही है। उद्योग विभाग पूरे राज्य में अब इस बात का सर्वे कराएगा कि यहां किन विदेशी उत्पादों की धमक अधिक है। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर यह निर्णय लिया जाएगा कि इनमें से किन उत्पादों को लघु और मध्यम उद्योगों के माध्यम से तैयार कराया जा सकता है।
यह प्रयोग यदि सफल रहा तो ऐसे तैयार उत्पादों से जहां पहले बिहार के बाजारों की मांग पूरी की जाएगी, उसके बाद राज्य से बाहर भी इनकी आपूर्ति हो सकेगी। इन सब चीजों का विस्तृत खाका सर्वे रिपोर्ट आने के बाद तैयार किया जाएगा। इसे लेकर उद्योग मंत्री श्याम रजक ने विभाग के आला अधिकारियों के साथ मंथन किया। यह सर्वेक्षण तत्काल शुरू कराने के निर्देश दिए। अब इसे लेकर विभाग अपनी सभी जिला इकाइयों को दिशा-निर्देश देने जा रहा है। श्याम रजक, उद्योग मंत्री बताते है कि बिहार के बाजारों में विदेशी उत्पादों की डिमांड का सर्वे कराने जा रहे हैं। सर्वे रिपोर्ट के आधार पर तय करेंगे कि किन उत्पादों को स्थानीय स्तर पर तैयार कराया जा सकता है।
उद्योग मंत्री कल करेंगे सभी जीएम से बात
रजक शुक्रवार यानि 15 मई को सभी जिला उद्योग केंद्रों के महाप्रबंधकों से बात करेंगे। वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होने वाली इस बैठक में वह सभी महाप्रबंधकों से इस सर्वेक्षण के संबंध में चर्चा करेंगे और इसे लेकर उनका फीडबैक भी लेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।