Breaking News

मोतिहारी: पीएनबी लूट कांड में 8 अपराधी गिरफ्तार, एसपी ने 12 घण्टे में किया घटना का उद्भेदन।



बैंक लूट कांड के अलावे 3 सीएसपी से लूट का उद्भेदन
लूट का 3 लाख 26 हजार कैश सहित 3 पिस्टल 14 गोली बरामद।

मोतिहारी से संवाददाता दीपू कुमार गिरि/मिठू गुप्ता की रिपोर्ट

पूर्वी चम्पारण: मेहसी के पुरानी बाज़ार में स्थित पंजाब नेशनल बैंक की शाखा से बड़ी लूट की घटना का उद्भेदन पुलिस ने 12 घण्टे में कर 8 अंतरजिला बदमाशो को गिरफ्तार किया है। जिनके पास से 3 पिस्टल , 14 जिनदा कारतूस , मोबाइल फोन सहित लूट की 3 लाख 26 हजार कैश बरामद किया गया है। एसपी नवीन कुमार झा ने पत्रकारों को बताया है कि गिरफ्तार अप्राद्धियों में मुजफरपुर कथैया थाने के जसौली का बाबुल कुमार , रत्नेश पांडेय , कथैया के ही कठिया गाव का अरविंद कुमार , प्रभात कुमार , अनिल कुमार , मोतीपुर अंजनीकोट का मणि कुमार , चकिया बांसघाट का राहुल कुमार , जसौली बलराज थाने का पिंटू कुमार शामिल है। इन सब के पास से 3 पिस्टल , 14 जिंदा कारतूस , बैंक से लूट का पैसा , बैंक का बैग , एक सीएसपी से लूटी गई बैग आदि बरामद किया गया है। पूरे गैंग का मास्टर माइंड मणि  राहुल के साथ 4 - 5 रोज से बैंक की रेकी कर रहे थे। मणि चकिया में ही किराए के मकान में रहता है और बैंक लूट के अलावे चकिया व पिपरा में सीएसपी से लूट कांड में लाइनर की भूमिका निभाया था।  मणि सहित तीन बदमाश  वर्ष 2018 में जेल गए थे। इन बदमाशो ने मोतिहारी के चकिया अनुमंडल को इन दिनों अपना सॉफ्ट टारगेट बना रखा था।गिरफ्तार अप्राद्धियों ने पिपरा में 4 अप्रैल  , मेहसी में 4 मई व चकिया में 8 मई को सीएसपी से लूट की थी। वही उक्त बदमाशो ने 20 मई को मेहसी के पुरानी बाज़ार में पीएनबी में लूट कर डाली। बताया गया हैं कि 5 लाख 73 हजार की लूट हुई थी। इसको लेकर बैंक के मैनेजर अरविंद कुमार ने एफआईआर दर्ज कराई है।
गिरफ्तार शातिर अनिल ने की थी इंस्पेक्टर पर फायरिंग
मेहसी बैंक लूट में गिरफ्तार अपराधियों की क्राइम हिस्ट्री खंगाली जा रही है। जिसमे 4 का क्रिमनल रिकार्ड बताया जा रहा है। बताते है कि इन बदमाशों में कथैया मुजफररपुर का अनिल कुमार अपने दो अन्य शागिर्दों के साथ दिसम्बर 2018 मे मोतीपुर के तत्कालीन इंस्पेक्टर अमिताभ कुमार पर गोली चला दी थी। जिसमे वे बाल -  बाल बचे थे। औराधियों के आने की सूचना पर इंस्पेक्टर श्री कुमार चेकिंग कर रहे थे , जहां पहुचते ही अनिल ने उन पर गोली चला दी। इसके अलावे मुजफ्फरपुर के विभिन्न थानों में गिरफ़्तार अपराधियों के विरुद्ध कई मामले दर्ज है।

डेढ़ माह से चकिया को टारगेट किये थे बदमाश
इधर तकरीबन डेढ़ महीने से गिरफ्तार बदमाशो ने चकिया अनुमंडल के बैंक व सीएसपी से लूट की प्लानिंग में जुटे हुए थे। इसको लेकर पुलिस ने भी बदमाशो की ब्लूप्रिंट निकाल रखी थी। हाल के दिनों में चकिया , पिपरा व मेहसी सीएसपी लूट के बाद एसपी नवीन कुमार झा ने आईजी से घटनाओ को लेकर गम्भीरता पूर्वक विचार कर साइबर सेल को लगाया गया था।  4 रोज पहले कई बदमाशो का लोकेशन तक ट्रेस कर लिया गया था। इस बीच मेहसी बैंक लूट हो गई , जिसमें पुलिस को ततकाल सफलता मिली।
पुलिस टीम में चकिया डीएसपी शैलेंद्र कुमार के नेतृत्व में मोतिहारी जिले के पांच व मुजफ्फरपुर जिले के दो थानाध्यक्ष के अलावे  साइबर सेल के पदाधिकारी शामिल थे। जिसमें चकिया इंस्पेक्टर निर्मल कुमार , चकिया सर्किल इंस्पेक्टर रामाश्रय प्रसाद यादव , मेहसी थाना अध्यक्ष अवनीश कुमार , पिपरा थाना अध्यक्ष मुकेश कुमार , पिपरा कोठी थानाध्यक्ष संजीव कुमार , मधुबन थाना अध्यक्ष संतोष कुमार , चकिया के सब इंस्पेक्टर हृदयानंद सिंह , धर्मेंद्र कुमार , अतुल राज , साइबर सेल के एसआई मनोहर कुमार , मनीष कुमार , सिपाही चिरंजीवी कुमार , नित्यानंद दुबे सहित मुजफ्फरपुर जिले के कथैया थाना प्रभारी सुनील कुमार व बलूराज एसएचओ अनूप कुमार शामिल थे।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।