Breaking News

जगदीशपुर: लाॅकडाउन में सब्जी उत्पादकों का हो रही काफी नुकसान।



पकड़िया में खेतों से तैयार सब्जी को देखते किसान।

जगदीशपुर।नौतन। कोरोना वैश्विक महामारी से पूरा देश संकट से गुजर रहा है। जिसको लेकर पिछले 25 मार्च से लाॅक डाउन लागू है। इससे देश के किसानों को काफी नुकसान हुआ है। अधिकांश तैयार फसल खेत मे ही बर्बाद हो गये। शेष जो बचे उसके बाजार भाव बहुत कम होने से काफी नुकसान का सामना किसानों को करना पड़ रहा है। प्रकृति आपदा जैसे असमय आऐ आंधी-पानी,ओलावृष्टि ने तो किसान के कमर ही तोड़ कर रख दी है। इससे किसान भूखमरी के कगार पर है। सब्जी की खेती कर अधिकतर किसान अच्छी कमाई कर लेते थे। जिससे वे अपने बच्चें को बाहर रखकर पढ़ाई करवाते थे। और जरूरत के आवश्यकताऐं पूरी करते थे।ऐसे किसानों मे लाॅकडाउन से हुऐ नुकासन को लेकर मायूसी उत्पन्न है।पकड़िया के रामेश्वर सिंह उर्फ दीनानाथ सिंह का कहना है कि पांच हक्टेयर मे प्रतिवर्ष बैंगन,भिंडी,करैला,परवल,कद्दू आदि की सब्जी करते है। जिससे प्रतिवर्ष 10-12 लाख की कमाई हो जाती है। ऐसे खेती मे लागत और मजदूर भी अधिक लगते है। जब सब्जी खेत मे तैयार हुऐ तो देश मे लाॅकडाउन लग गया। सब्जी बाहर जाने मे काफी दिक्कतें है। और स्थानिय बाजारों मे सब्जी के उचित भाव नही है। लाॅक डाउन के पहले भिन्डी-50,बैंगन-40,परवल-70, करैला-50 रूपया प्रति किग्रा के साथ कद्दू 40-50 रूपया प्रति पीस के दर से बिक रहे थे।लेकिन अब करैला,भिन्डी,परवल,बैंगन सभी 08-10 रूपया किग्रा या उससे भी कम दर पर बिक रहे है। ऐसे मे लागत भी नही निकल रहा है। सब्जी उत्पादन करने वाले दुसरे किसान हीरामन प्रसाद का कहना है कि अधिक मेहनत के बावजूद तैयार फसल को बाजारों मे औने-पौने दाम पर बेचने की मजबूरी है। सब्जी के खेती कर ही बच्चें को बाहर रखकर पढ़ाई करवाते थे। अब इस हालात मे घर पर ही बच्चे को रखना पडे़गा।

 बढ़ी परेशानी। 
1.लाॅक डाउन से किसानों के आऐ हुऐ बंद।
2.सब्जी के खेती करने वाले किसानों को उठाना पड़ रहा है काफी नुकसान।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।