Breaking News

हाथ जोड़कर बोला प्रवासी मजदूर, अब इ जनम में न जइबो परदेस; जयपुर से पैदल मधुबनी पहुंचे 39 श्रमिक



मैनाटाँड़ से संवाददाता अमित कुमार की रिपोर्ट
 पश्चिम चंपारण/मैनाटाँड़। लॉकडाउन के बाद देश में मजदूरों व कामगारों की हालत काफी खराब हो गई है। मजदूर सैकड़ों मील पैदल चलकर अपने घर वापस आने को मजबूर हैं। रविवार को जयपुर से पैदल चलकर मधुबनी पहुंचे तो उनका दर्द छलक पड़ा। प्रवासी मजदूरों ने बताया कि वहां हालत काफी खराब थी। कोरोना संक्रमण से अगर बच भी जाते तो भूख से मर जाते। दोबारा जयपुर जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि अब अपने गांव को छोड़कर परदेश इस जन्म में तो नहीं जाएंगे।उन्होंने बताया कि मुश्किल से दिन में खाना खा पाते थे। लॉकडाउन में काम बंद हो गया। इसके बाद जमा किए पैसे भी खर्च होने लगे। फिर उन्होंने निश्चय किया कि वे पैदल की अपने गांव वापस जाएंगे। वे वहां से किसी तरह बिहार के मधुबनी  पहुंचे। फिर सरकारी बस से मैनाटाँड़ तक आए।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।