Breaking News

लॉकडाउन : यूपी में 15 अप्रैल से मिलने लगेंगी कई सुविधाएं, जानें क्या-क्या होने जा रहा है शुरू



उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 'जान भी और जहान भी' मंत्र का पालन करते हुए कुछ अहम सेवाओं को शुरू करने का निर्णय लिया है। सरकारी व निजी अस्पतालों में खास इलाज तथा आपातकालीन सुविधाएं फिर से शुरू होंगी। मंत्री व अधिकारी 15 अप्रैल से दफ्तर में बैठना शुरू करेंगे। सभी मंत्री अपने कार्यालय में अपना सामान्य काम शुरू करेंगे।

लॉकडाउन के संबंध में यूपी सरकार केंद्र के दिशानिर्देशों का पालन करेगी। निर्माण परियोजनाएं भी धीरे-धीरे शुरू होंगी। अस्पतालों में सामान्य इलाज की व्यवस्थाएं भी शुरू होंगी। यह सब काम सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ही होगा। मुख्यमंत्री योगी ने रविवार शाम अपने 19 कैबिनेट मंत्रियों के साथ बैठक कर लॉकडाउन के बाद की स्थिति की चर्चा की। उन्होंने कहा कि कोरोना जैसी वैश्विक बीमारी से लोगों की जान तो बचानी ही है, साथ ही उन सामान्य कामों को आगे बढ़ाने की जरूरत है। इसलिए हमने कुछ मंत्रियों की अध्यक्षता में कमेटी बनाई है। उप मुख्यमंत्री केशव मौर्य की कमेटी देखेगी कि निर्माण कार्य शुरू करते हुए कैसे एक्सप्रेस-वे व अन्य परियोजनाओं का काम बढ़ाया जाए। इसके लिए जहां श्रमिक मौजूद हैं, वहां काम शुरू कराया जाए।

उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा की कमेटी देखेगी कि आनलाइन पढ़ाई कैसे शुरू होगी। वित्तमंत्री सुरेश खन्ना की कमेटी संसाधन बढ़ोतरी के काम देखेगी। आनलाइन रजिस्ट्री कैसे शुरू हो सकती है, इस पर काम करेगी। कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही की कमेटी किसानों की समस्याएं दूर करेगी, गेहूं खरीद तथा समर्थन मूल्य दिलाने जैसे काम करेगी। स्वास्थ्य मंत्री की कमेटी मेडिकल कालेजों, निजी कालेजों और अस्पतालों में डॉक्टर व नर्सिंग स्टाफ की सुरक्षा, डायलिसिस, रेडियो थेरेपी  जैसे इलाज शुरू कराएगी। जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह की कमेटी राज्य में पेयजल संकट दूर करेगी। खाने-पीने के सामान की आनलाइन डिलिवरी करने की छूट  रेस्टोरेंट को कुछ शर्तों के साथ दी जाएगी।  सीएम ने कहा कि जो व्यक्ति 14 दिन  शेल्टर होम में रह चुके हैं, उन्हें 14 दिन होम शेल्टर में रखा जाएगा। उन्हें खाद्यान्न दिया जाएगा।

बैसाखी समेत किसी पर्व पर नहीं होगा आयोजन:
सीएम ने कहा कि बैसाखी पर कोई सार्वजनिक कार्यक्रम नहीं होगा। लॉकडाउन का हर हाल में पालन होगा। 14 अप्रैल को अम्बेडकर जयंती है। इस दिन सभी मंत्री व अधिकारी अकेले ही कार्यालय में उनके चित्र पर माल्यार्पण करेंगे। रमजान का महीना शुरू होगा। धर्मगुरुओं से अपील है कि कोई आयोजन न हो। 15 अप्रैल से मंत्री अपने कार्यालय में योजनाओं की समीक्षा करेंगे। विशेष सचिव स्तर के अधिकारी कार्यालय आएंगे। लॉकडाउन के बारे आगे की कार्यवाही केंद्र के निर्णय के हिसाब से होगी।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।