Breaking News

आगरा: एक दिन में मिले कोरोना के 35 मामले, 'आगरा मॉडल' पर उठने लगे सवाल



आगरा: कोरोना के खिलाफ लड़ाई में उत्तर प्रदेश का आगरा मॉडल चर्चा में था। सोमवार को आगरा में सिर्फ एक दिन में कोविड-19 के 35 नए मामले रिपोर्ट हुए। इसके बाद आगरा मॉडल पर सवाल उठने लगा है। शहर में अब कोरोना संक्रमितों की संख्या 138 हो गई है।

हालांकि प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीम आगरा मॉडल का बचाव कर रही है। उनका कहना है कि हम बड़े स्तर पर सैंपलिंग कर रहे हैं और संदिग्ध मरीजों की पहचान की जा रही है। मरीजों की बढ़ती संख्या इसी का नतीजा है। उनका कहना है कि लंबे सयम में यह हमारे लिए फायदेंमंद साबित होगा। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि आज पॉजिटिव आए 35 मामलों में से 8 जमात से संबंधित है। वहीं आगरा के कुल 138 संक्रमितों में से 60 या तो जमात के हैं या उनसे लिंक वाले हैं।

आगरा मॉडल पर काम करते रहेंगे
आगरा के जिला अधिकारी (डीएम) प्रभु एन सिंह कहते हैं, 'वर्तमान में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है लेकिन यह जल्द ही कम होने लगेगा। संदिग्धों को क्वारंटाइन करना ही ऐसे मामलों का एक मात्र विकल्प है।' आगरा डीएम सरकार के बनाए क्वारंटाइन सेंटर में संदिग्धों को रखना और वहीं से जांच के लिए सैंपल को भेजने की बात की तरफदारी करते हैं। वे कहते हैं कि हम आगरा मॉडल के तहत काम करते रहेंगे। आगरा मॉडल बड़े मात्रा में सैंपलिंग, सोशल डिस्टेंसिंग और संस्थागत क्वारंटाइन पर आधारित है।

ये हॉटस्पॉट बने खतरा

फतेहपुर सीकरी के ग्रामीण इलाकों में कोरोना वायरस का संक्रमण शहर के लिए सबसे खतरनाक साबित हुआ। यहां पर एक ही व्यक्ति से एक ही परिवार के 14 लोग संक्रमित हो गए। सभी की रिपोर्ट एक ही दिन आई और सारे के सारे पॉजिटिव पाए गए। इसके अलावा शहर का पारस हॉस्पिटल और पास का बायपास रोड दूसरा हॉटस्पॉट बना। यहां के स्टाफ और उनके संपर्क में आने वालों से 20 लोग संक्रमित हो चुके हैं। पारस अस्पताल को सील करने की बात से इनकार करते हुए सीएमओ डॉ मुकेश कुमार वत्स ने कहा कि कुछ रोगियों का वहां इलाज चल रहा था। हालांकि किसी नए मरीज को वहां भर्ती करने की इजाजत नहीं दी गई।

फतेहपुर सीकरी और पारस हॉस्पिटल के अलावा घटिया आजम खान का इलाका शहर में एक और हॉटस्पॉट है। यहां पर एक प्राइवेट मेडिकल प्रैक्टिशनर में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई थी। माना जा रहा है कि इस शख्स के संपर्क में आने से कम से कम पांच अन्य लोग संक्रमित हुए हैं।

यह सक्रिय निगरानी और सैंपलिंग का नतीजा

आगरा सीएमओ मुकेश कुमार वत्स कहते हैं, 'फिलहाल लोगों को नंबर नहीं देखना चाहिए क्यों कि यह सक्रिय निगरानी और सैंपलिंग का नतीजा है। अभी तक आगरा में 2264 सैंपल जांचे गए हैं। अभी जो भी पॉजिटिव केस आ रहे हैं, उनकी उत्पति के बारे में हमें जानकारी है और यह हमारे आगरा कंटेनमेंट प्लान का हिस्सा है।' इसके साथ ही सीएमओ वत्स कहते हैं, 'अभी तक कोरोना से एक ही व्यक्ति की मौत हुई है। मृतक महिला उम्रदराज थी और उन्हें अस्थमा की समस्या थी। बाकी अन्य पॉजिटिव मरीजों को हम आइसोलेशन में रख रहे हैं और इलाज के बाद उन्हें डिस्चार्ज किया जा रहा है। फिलहाल आगरा में कोरोना के 124 एक्टिव केसेस हैं।'

सीएमओ ने बताया- आगरा में क्यों बढ़े नंबर
सीएमओ ने कहा, 'फतेहपुर सीकरी के ग्रामीण इलाके, प्राइवेट हॉस्पिटल और एक प्राइवेट प्रैक्टिशनर के कारण बने प्रमुख हॉटस्पॉट से उभरी चुनौतियों का सामना कर रहे हैं। हम आक्रामक रूप से इनके संपर्क में आने वालों की जांच कर रहे हैं जिस कारण नंबर बढ़ रहा है।' सीएमओ ने कहा, 'हमने फतेहपुर सीकरी के नए हॉटस्पॉट को सील कर दिया है, जहां से एक ही परिवार के 14 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं। कंटेनमेंट करने के लिए उठाए जाने वाले कदमों के लिए एक कम्युनिटी हेल्थ सेंटर के प्रभारी को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।'

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।