Breaking News

अच्छी खबर! कोरोना पॉजिटिव मुंगेर निवासी महिला और बच्चे ने जीत ली कोरोना से जंग



कतर से आये मुंगेर निवासी युवक से संक्रमित कोरोना पॉजिटिव महिला और बच्चे ने सात दिन के जद्दोजहद के बाद आखिरकार कोरोना से जंग जीत ली है। कोरोना पॉजिटिव पाये जाने के बाद चले इलाज के बाद पहली बार हुई जांच रिपोर्ट में दोनों कोरोना निगेटिव पाये गये हैं। 
अब एक बार और दोनों की जांच करायी जायेगी, दूसरी रिपोर्ट भी निगेटिव आने पर दोनों को आइसोलेशन वार्ड से डिस्टार्ज कर घर भेज दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि 25 मार्च को एमसीएच क्वॉरंटाइन वार्ड में भर्ती हुए दोनों मुंगेर जिले के कासिमनगर निवासी 35 वर्षीय रेशमा बेगम और 12 वर्षीय मोहम्मद कैफ को 25 मार्च की शाम 5:10 बजे मायागंज अस्पताल के एमसीएच कोरोना आइसोलेशन वार्ड के तृतीय तल पर भर्ती कराया गया था।
दोनों का इलाज मेडिसिन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. राजकमल चौधरी की यूनिट में चल रहा था। बकौल डॉ. चौधरी, महिला व बच्चे को लगातार एंटी वायरल दवा दिया जा रहा था। हालांकि इस दौरान उन्हें सर्दी, खांसी, बुखार और सांस की तकलीफ की शिकायत थी। लेकिन हर छह घंटे पर दोनों के सेहत की गयी जांच और मानीटरिंग के बाद दोनों के तबीयत में सुधार हुआ। 
मंगलवार को दोनों का गले का स्वैब (कोरोना जांच) के लिए आरएमआरआई पटना को भेजा गया। गुरुवार को आये रिपोर्ट में दोनों कोरोना निगेटिव यानी कोरोना संक्रमण से मुक्त पाये गये हैं। इलाज के बाद कोरोना पॉजीटिव मरीज के स्वस्थ होने का यह भागलपुर समेत पूर्वी बिहार का पहला मामला है। 
मुंगेर के सैफ अली की चेन से संक्रमित हुई थी महिला
कतर से आये मुंगेर निवासी युवक सैफ अली की रिश्तेदार महिला और बच्चे दोनों सैफ अली से संक्रमित हुए थे। सैफ की मौत कोरोना से पटना के एम्स में इलाज के दौरान हो गई थी। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने टीम गठित कर सैफ के गांव में परिवार और रिश्तेदार समेत उनके संपर्क में आए  लगभग 50 लोगों की जांच के आदेश दिए थे। सैफ की चेन से कुल 10लोग संक्रमित हुए थे। इन्ही 10 में ये महिला और बच्चे भी शामिल थे।
आईसीएमआर यानी इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार, कोरोना पॉजीटिव मरीज अगर दो बार कोरोना जांच में निगेटिव पाया जायेगा, तभी उसे अस्पताल से छुट्टी देनी होगी। ऐसे में पहली बार कोरोना निगेटिव पाये गये लोगों की शुक्रवार को पुन: जांच करायी जायेगी। रिपोर्ट निगेटिव आयी तो दोनों को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया जायेगा । - डॉ. आरसी मंडल, अधीक्षक जेएलएनएमसीएच

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।