Breaking News

आपदा विभाग के इस एप की मदद से 45 मिनट पहले ठनका गिरने की चेतावनी मिलेगी





ठनका आने की पूर्व जानकारी देने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग ने मोबाइल एप लाया है। मोबाइल एप इन्द्रवज्र डाउनलोड किए हुए मोबाइल पर करीब 20 किलोमीटर की परिधि में गिरने वाले ठनका की 40 से 45 मिनट पहले जानकारी मिल जाएगी।

एप डाउनलोड वाले स्मार्टफोन पर पूर्व अलार्म टोन के साथ चेतावनी संदेश आएगा। संदेश के जरिए यह बताया जाएगा कि आपके करीब 20 किलोमीटर की परिधि में ठनका (व्रजपात) गिरने वाला है। इस संदेश के बाद लोग ठनका से बचाव को लेकर सतर्क हो सकते हैं। बचाव को लेकर बताए गए एहतियातन उपाय को अमल में ला सकते हैं। आपदा प्रबंधन विभाग का माने तो इन्द्रवज्र मोबाइल एप पूर्व चेतावनी देने में कारगर साबित हो रहा है।
गूगल एप में जाकर आसानी से करें डाउनलोड
अगर आपके पास स्मार्टफोन है तो गूगल एप पर जाकर आसानी से इन्द्रवज्र एप को आप डाउनलोड कर सकते हैं। गूगल एप में जाकर लोगों को इन्द्रवज्र टाइप करना होगा। इसके बाद इन्द्रवज्र एप पर क्लिक करते इंस्टॉल का ऑप्शन आएगा और उसपर क्लिक कर ओपन को क्लिक करने के बाद अपना मोबाइल नंबर डालना होगा। फिर छह डिजिट का वेरिफिकेशन कोड/ओटीपी प्राप्त होगा। वेरिफिकेशन कोड के सत्यापन के बाद एक चित्र दिखेगा और मोबाइल लोकेशन की अनुमति के लिए अलाउ बटन को क्लिक करना होगा। इसके बाद एग्री बटन को क्लिक करते एप डाउनलोड हो जाएगा।

ठनका से बचाव के उपाय
ठनका गिरने के दौरान पेड़ के नीचे खड़े नहीं रहे। बिजली के खंभों और पेड़ों से दूर रहे। धात्विक वस्तुओं से भी दूरी बनाए रखें। विद्युत उपकरणों का उपयोग नहीं करें। मोबाइल और टेलीफोन का उपयोग नहीं करें। टेलीविजन चलाना बंद कर दे। जंगल में होने पर निचले स्थान या घाटी क्षेत्र में रहे लेकिन वहां आकस्मिक बाढ़ से भी सावधान रहें। किसी जल स्त्रोत में तैरते या नहा रहे हैं तो उससे निकल कर जमीन पर आकर लेट जाएं। यदि आपके सिर के बाल खड़े हो रहे हो तो आपके आसपास खतरा हो सकता है। किसी अनहोनी से बचने के लिए अपने हाथों से बालों को ढ़क कर सिर को घुटनों में छिपा ले। विद्युत से बचाव के लिए भवनों, सार्वजनिक इमारतों के ऊपर तड़ित चालक लगवाना चाहिए।

जिले में सबसे अधिक सिमरी बख्तियारपुर में होती ठनका गिरने की घटना
जिले में सबसे अधिक सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड क्षेत्र में ठनका गिरने की घटना होती है। इसके बाद सत्तरकटैया और सोनवर्षाराज प्रखंड क्षेत्र में ठनका गिरने की घटना होती है। अपर समाहर्ता धीरेन्द्र कुमार झा ने कहा कि सहरसा जिले में ठनका गिरने की घटना कम होती है। सिमरी बख्तियारपुर प्रखंड क्षेत्र में सबसे अधिक ठनका गिरने की घटना होती है।

ठनका से हुई मौत पर मुआवजा राशि देने का है प्रावधान
ठनका से हुई मौत पर चार लाख मुआवजा राशि देने का प्रावधान है। यह राशि जांच कर आपदा मद से दिया जाता है।

इन्द्रवज्र मोबाइल एप से पौने घंटे पहले ठनका गिरने की पूर्व चेतावनी मिल जाती है। इसके बाद संबंधित क्षेत्र में सीओ को भेजकर जांच कराई जाती है। - धीरेन्द्र झा, अपर समाहर्ता, सहरसा

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।