Breaking News

मधुबनी के मस्जिद से पुलिस टीम पर पथराव और फायरिंग में 250 पर केस, एक की परिवार के 4 गिरफ्तार



मधुबनी: कोरोना लॉक डाउन के दौरान बिहार के मधुबनी जिले के गिदरगंज गांव के जामा मस्जिद से पुलिस और प्रशासन की टीम पर पथराव और फायरिंग के मामले में पुलिस ने केस दर्ज करते हुए एक ही परिवार की महिला समेत चार को गिरफ्तार किया है। सीओ विष्णुदेव सिंह के आवेदन पर 50 नामजद और 200 अज्ञात को आरोपित किया गया है।
इपिडेमिक डिजीज एक्ट 1897 धारा 3 समेत अन्य कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है। अंधराठाढ़ी एसएचओ अमृत लाल वर्मन ने बताया कि इस मामले में एक ही परिवार के चार लोगों की गिरफ्तारी हुई है। जिनमे लाल मोहम्मद, इनके पिता मोहम्मद मुस्ताक, भाई मोहम्मद इसकरुल और माँ नासिरा खातून शामिल है। नामजद लोगों मे कई नामचीन लोग शामिल हैं।  डीएसपी अमित शरण ने कहा कि नामजद अभियुक्तों की जल्द ही गिरफ्तारी होगी। नामजद लोग भूमिगत हो गए हैं। बता दें कि घटना के बाद रात में भारी पुलिस बल पोखर में फेंकी जीप निकालने के बाद दिन में एक बार भी नही गई। पुलिस अब गिदरगंज गांव में बिना पूरी तैयारी के जाने से परहेज कर रही है।

ये है मामला
बिहार के मधुबनी जिले के झंझारपुर अनुमंडल के अंधराठाढ़ी प्रखंड के गीदड़गंज गांव की मस्जिद में मंगलवार शाम सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ाने गई पुलिस और प्रशासन की टीम पर लोगों ने हमला कर दिया। हमलावरों ने बवाल करते पथराव शुरू कर दिया जिससे अंचल अधिकारी सहित अन्य कर्मी जख्मी हो गए। इस दौरान ग्रामीणों की ओर से फायरिंग भी की गई। बवाल बढ़ते देख बीडीओ व थानाध्यक्ष किसी तरह जान बचाकर वहां से निकले। हमलावरों ने प्रशासन की एक गाड़ी को क्षतिग्रस्त कर तालाब में गिरा दिया।
घटना को लेकर मधुबनी एसपी डॉ. सत्यप्रकाश ने बताया कि थानाध्यक्ष को मस्जिद में भीड़ और बाहरी लोगों के होने की सूचना मिली थी। इसपर जब पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की टीम पहुंची तो ग्रामीणों के एक गुट ने अचानक हमला बोल दिया। हमलावरों पर एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी की कार्रवाई होगी। वहीं झंझारपुर एसडीपीओ ने ग्रामीणों द्वारा गोली चलाने की पुष्टि की।
पुलिस ने सख्ती दिखाई तो लोगों ने हमला कर दिया
जानकारी के अनुसार पुलिस को मस्जिद में जमात में कई लोगों के शामिल होने की सूचना मिली थी। विदेश की यात्रा से लौटे लोगों के भी जमात में शामिल होने की भी सूचना थी। अंधराठाढ़ी बीडीओ राजेश्वर राम, सीओ विष्णुदेव सिंह व थानाध्यक्ष अमृत लाल वर्मण दल बल के साथ शाम करीब साढ़े छह बजे गीदड़गंज गांव स्थित मस्जिद पहुंचे। भीड़ देख पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग बनाने को कहा। आदेश मानने से इनकार करने पर जब पुलिस ने सख्ती दिखाई तो लोगों ने हमला कर दिया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई शुरू की तो छतों से पत्थरबाजी शुरू हो गई। हालात बेकाबू हो गया। हमले में सीओ जख्मी हो गए। अन्य कर्मियों को चोटें आयीं। 
इस दौरान हमलावरों ने प्रशासन की एक जीप को क्षतिग्रस्त कर तालाब में गिरा दिया। अधिकारी अन्य कर्मी वहां से वापस लौटे। एसपी डॉ. सत्य प्रकाश ने बताया कि वहां दो गुटों में विवाद है। एक गुट के लोगों ने पुलिस प्रशासन पर हमला किया।  
 

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।