Breaking News

बिहार: लॉकडाउन में भी गरीब बना सकेंगे सरकारी सहायता से अपना मकान, 1274 परिवारों को चुना गया, सबसे अधिक मुजफ्फरपुर के



राज्य में लॉकडाउन के दौरान भी गरीबों के घर बन सकेंगे। इन लोगों के आवास निर्माण में पैसे की कमी आड़े नहीं आएगी। खास बात यह है कि ऐसे गरीब भी सरकारी सहायता से अपना मकान बना पाएंगे, जिनके पास खुद की जमीन भी नहीं है। दरअसल राज्य सरकार ने ऐसे लोगों की पहचान का काम पहले से ही शुरू कर दिया था। सरकार ने इन लोगों के आवास निर्माण के लिए जरूरी भूखंड खरीदने के लिए पैसे भी उपलब्ध कराए थे। लेकिन कोरोना आपदा शुरू होने के बाद सारा काम रुक गया था।

अब सरकार की हिदायत के बाद ऐसे गरीब भूमिहीन लोगों को प्राथमिकता के आधार पर अपना मकान बनाने के लिए प्रोत्साहित किया गया है। ग्रामीण विकास विभाग ने मुख्यमंत्री वास स्थल क्रय योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत इन गरीबों को मकान बनाने के लिए पैसा देना शुरू किया है। इन लाभुकों को वास स्थल योजना के तहत 60 हजार दिए गए हैं।  इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत 1 लाख 20 हजार रुपए दिए जाएंगे।
 इस योजना में अब तक 1274 गरीबों का चयन कर उन्हें निबंधित कर लिया गया है। इसमें 746 परिवारों को आर्थिक सहायता दे दी गई है। इस पैसे से चयनित लोग अपना मकान निर्माण शुरू करेंगे। निर्माण सामग्री उपलब्ध कराने के लिए जिला स्तर पर चयनित स्थानीय वेंडरों को कह दिया गया है। इस योजना के तहत सबसे अधिक लाभुक मुजफ्फरपुर में है। वहां 147 लाभुक को पैसे मिल चुके हैं। कटिहार में 66 , भागलपुर में 63, समस्तीपुर में 49, मधेपुरा में 47 परिवारों को पैसा मिल गया है। निर्माण सामग्री पहुंचने के बाद अगले सप्ताह से काम भी शुरू हो जाएगा। जिन 1274 गरीब परिवारों का चयन का निबंधन किया गया है उनमें अनुसूचित जाति जनजाति के 654, अल्पसंख्यक 134, अन्य वर्गों के 446 गरीब हैं।

सरकार ने वैसे इस योजना के तहत बीस हजार लाभुकों के चयन का लक्ष्य रखा है। इनमें सबसे अधिक लाभुक सीतामढ़ी जिले से चयनित किए जाएंगे। पश्चिमी चंपारण, बेगूसराय, कटिहार, पूर्णिया और मुजफ्फरपुर से भी लाभुक चिन्हित किए गए हैं। खास बात है कि पटना से भी 954 लाभुक चयन किए गए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं

बिहार खबर वेबसाइट पर कॉमेंट करने के लिए धन्यवाद।