HomeBiharमां के सामने जिंदा जली 12 साल की बच्ची: मुजफ्फरपुर में चूल्हे...

मां के सामने जिंदा जली 12 साल की बच्ची: मुजफ्फरपुर में चूल्हे की चिंगारी से 8 घर खाक, लपटों में फंसी मासूम; चीख-चीखकर तोड़ दम

 

 

मुजफ्फरपुर में एक घर में रखे चूल्हे की चिंगारी से एक-एक कर 8 घर जलकर खाक हो गए। आग की लपटों में एक 12 साल की बच्ची भी फंस गई। मां ने उसे बचाने के लिए अंदर जाने की कोशिश भी की, लेकिन लपटें इतनी तेज थी की वो उसे बचा नहीं पाई। और बच्ची मां के सामने ही आग में जिंदा जल गई। मां ने बताया कि वो जब अंदर जाने की कोशिश कर रही थी तब बच्ची रो रही है। चिल्ला रही थी।

 

मामला औराई थाना क्षेत्र के भरथुआ गांव का है। जहां रविवार में देर रात 8 घर खाक हो गए। 5 मवेशियों की भी जलने से मौत हो गयी। घटना के बाद चीख पुकार मच गई। स्थानीय थाना को सूचना दी गयी। लेकिन, ग्रामीणों का आरोप है कि रात से सुबह हो गई। पर कोई सुध लेने नहीं आया है। बे

 

दौल ओपी से कुछ पुलिस वाले पहुंचे थे। लेकिन, फायर ब्रिगेड की गाड़ी अबतक नहीं पहुंची। ग्रामीणों ने खुद ही आग पर काबू पाने की कोशिश की। पर तबतक बहुत देर हो चुकी थी। इसमें करीब 10 लाख से अधिक की संपत्ति का नुकसान बताया जा रहा है। मृत बच्ची की पहचान विमल साह की बेटी रुक्मिणी कुमारी (12) के रूप में हुई है।

 

चूल्हे से निकली थी चिंगारी

स्थानीय प्रभु शंकर गुप्ता ने बताया कि रात को खाना बनाने के बाद आग को बुझा दिया गया था। लेकिन, कुछ देर बाद इसमें से एक चिंगारी निकली। हवा काफी तेज थी और घर फूस के थे। चिंगारी ने देखते-देखते आग का रूप ले लिया। धू-धू कर घर जलने लगा।

 

विमल साह का परिवार किसी तरह बाहर निकला। लेकिन, उनकी बच्ची अंदर फंस गई। शोर सुनकर आसपास के लोग पहुंचे। आग में फंसी बच्ची को बचाने का प्रयास किया। आग की लपटें इतनी तेज थी कि कोई अंदर जाने की हिम्मत नहीं जुटा सका और देखते-देखते वह मासूम जिंदा जल गई।

 

मुजफ्फरपुर में एक घर में रखे चूल्हे की चिंगारी से एक-एक कर 8 घर जलकर खाक हो गए। आग की लपटों में एक 12 साल की बच्ची भी फंस गई। मां ने उसे बचाने के लिए अंदर जाने की कोशिश भी की, लेकिन लपटें इतनी तेज थी की वो उसे बचा नहीं पाई। और बच्ची मां के सामने ही आग में जिंदा जल गई। मां ने बताया कि वो जब अंदर जाने की कोशिश कर रही थी तब बच्ची रो रही है। चिल्ला रही थी।

 

मामला औराई थाना क्षेत्र के भरथुआ गांव का है। जहां रविवार में देर रात 8 घर खाक हो गए। 5 मवेशियों की भी जलने से मौत हो गयी। घटना के बाद चीख पुकार मच गई। स्थानीय थाना को सूचना दी गयी। लेकिन, ग्रामीणों का आरोप है कि रात से सुबह हो गई। पर कोई सुध लेने नहीं आया है। बे

 

दौल ओपी से कुछ पुलिस वाले पहुंचे थे। लेकिन, फायर ब्रिगेड की गाड़ी अबतक नहीं पहुंची। ग्रामीणों ने खुद ही आग पर काबू पाने की कोशिश की। पर तबतक बहुत देर हो चुकी थी। इसमें करीब 10 लाख से अधिक की संपत्ति का नुकसान बताया जा रहा है। मृत बच्ची की पहचान विमल साह की बेटी रुक्मिणी कुमारी (12) के रूप में हुई है।

 

चूल्हे से निकली थी चिंगारी

स्थानीय प्रभु शंकर गुप्ता ने बताया कि रात को खाना बनाने के बाद आग को बुझा दिया गया था। लेकिन, कुछ देर बाद इसमें से एक चिंगारी निकली। हवा काफी तेज थी और घर फूस के थे। चिंगारी ने देखते-देखते आग का रूप ले लिया। धू-धू कर घर जलने लगा।

 

विमल साह का परिवार किसी तरह बाहर निकला। लेकिन, उनकी बच्ची अंदर फंस गई। शोर सुनकर आसपास के लोग पहुंचे। आग में फंसी बच्ची को बचाने का प्रयास किया। आग की लपटें इतनी तेज थी कि कोई अंदर जाने की हिम्मत नहीं जुटा सका और देखते-देखते वह मासूम जिंदा जल गई।

 

उन लोगों को बताया कि बेटी अंदर हो फंसी हुई है। आग की लपटें देखकर किसी ने अंदर जाने की हिम्मत नहीं जुटाई। कुछ देर बाद रुक्मिणी की चीख शांत हो गयी। जब आग बुझ गया तो देखा कि उसकी लाश पड़ी हुई है।

कैश और जेवरात जल गए

शिला ने बताया कि बेटे की शादी करने वाली थी। ट्रंक में जेवरात, कीमती कपड़े और एक लाख रुपए कैश जमा कर रखे थे। सब आग में जलकर राख हो गया। वहीं अन्य लोगों में विनोद साह, जतन साह और राजकुमार साह समेत अन्य लोगों का घर भी जलकर राख हो गया। सब मेहनत मजदूरी करने वाले परिवार हैं। अब इनके सिर पर न छत है और न तन ढ़कने के लिए कपड़े।

 

पीड़ित परिवार में आक्रोश

पीड़ित परिवार में आक्रोश व्याप्त हैं। कहते हैं कि अबतक कोई भी उनलोगों की सुध लेने नहीं आया है। गांव से कोई जनप्रतिनिधि भी हाल चाल पूछने अबतक नहीं आया है। हमलोग कहां रहेंगे। क्या खाएंगे। इसकी चिंता किसी को नहीं है। प्

 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular